Saturday, January 1, 2011


२०१० के बीते दिनों में आपने

बहुत कुछ खोया होगा

बहुत कुछ पाया होगा ....

किसी को ठुकराया होगा

तो किसी को अपने होगा ...

किसी से झगडे होंगे

तो किसी को सताया होगा ...

कभी ख़ुशी तो

कभी दर्द हिस्से में आया होगा ...

किये होंगे मनचाहे काम कई

और नए अनुभवों से

गलतियों को सहलाया होगा ...

शायद छीन ली हो किस्मत ने

प्यारी चीज़ कोई

तो किसी नई चीज़ से मिलाया होगा ...

आप भले ही न बदले हो बिलकुल भी

पर आपका कोई अंदाज़ तो बदला होगा ...

बीत गया साल वो सारे पल समेट कर

जिन पर आपने अपना हक़ जताया होगा ...

झूम लो , मुस्कुरा लो इस पल में जी भरकर

फिर ये साल आपकी मीठी यादों में

समाया होगा ....

10 comments:

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बिलकुल समेट लिया हर पल ...

नव वर्ष की शुभकामनाएं

मनोज भारती said...

झूम लो , मुस्कुरा लो इस पल में जी भरकर
फिर ये साल आपकी मीठी यादों में
समाया होगा ....

बहुत सुंदर बात

Bhushan said...

'किये होंगे मनचाहे काम कई
और नए अनुभवों से
गलतियों को सहलाया होगा ...'

सुंदर अभिव्यक्ति. नववर्ष की मंगलकामनाएँ.

Kajal Kumar said...

वाह ये हुई न बात ... एक सकारात्मक विचार.
पढ़ कर अच्छा लगा.

राज भाटिय़ा said...

आप को ओर आप के परिवार को इस नये वर्ष की शुभकामनाऎं

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' said...

छह महीने के बाद आपकी रचना पढने को मिली है...
बहुत सुन्दर लिखा है, बधाई.
नए साल की हार्दिक शुभकामनाएं.

डॉ .अनुराग said...

happy new year!!!!

संदीप 'शालीन ' said...

bhutkhoob!

नीरज गोस्वामी said...

इस अनूठी रचना के लिए आपको बधाई...देर से ही सही...

नीरज

संदीप 'शालीन ' said...

सुंदर अभिव्यक्ति!