Tuesday, January 5, 2010

व्हाट इस योर न्यू ईअर रेसोलुशन


ऐ लो जी ...फेर नवा साल आया ऐ ...त्वानू सारयानु बधाइयाँ होण जी ...गिफ्ट लओ , गिफ्ट देओ...मेसेज लओ , मेसज देओ ...पार्टियाँ देओ ते पार्टियाँ लओ ...गुब्बारे फोड़ो ते केक कट्टो...नचने गाण दा फ्लोर तोड़ो ...
अरे अरे ...तुसी एवे हीं बुरा मान गए ...
तुसी नाचे सी , फ्लोर नि तोड्या सी ...
माफ़ी जी माफ़ी ...मेरे क्यान दा मतलब नवे साल दा जोश दे नाल स्वागत करन दे नाल हया ...
नवे नवे सालां दे सवालां दे उत्तर दें वास्ते तैयार हो जाओ जोश दे नाल ...नवे साल दे नवे सवाल ...हुन सवाल वड्डे होणगे या निक्के ऐ ते पता नई.......
कि कया...? हुन क्यों नई पता ...?
ब्रावा .. मै ते पंडित ते है नई मै त्वानू कि दासां सवाल निक्के होणगे कि बड्डे ...
दिन ते महीने ते साल एवे ही निकल दे जानगे....साल दी कि ऐ एते ही निकल जांगा ....वडिया वडिया गलां करने दा इक होर नवा साल आ गे ऐ .... गल्लां ते वडिया वडिया करो नि ...क्यूँ जी हैं जी ...
वड्डे वड्डे लोगन दियां वडिया गल्लां ...तुसी निकिया निकिया गल्लां कर रहे हो ...जैसे मै इस साल डाईटिंग करंगा , मै इस साल थाली तियों मिठाई कडके अलग कर देयंगा ...या जैसे कि असी मियां बीवी झगडा नहीं करांगें...या हर मंगल ते हर शुकर मै व्रत रखंगी ....ऐ निक्के निक्के काम ते होंदे ही रहेंगे ...कुछ वड्डी वड्डी गलां करो तां कुछ गल बणे....
ता ...कि वादा कित्ता तुस्सी ....?
किन्ने नाल ...?
किसी दे नाल विच ...
सारी दुनिया विच कोई ते होगा ....
नि ते अपने आप नाल ते कित्ता ही होगा .... जैसे "गल्लां घट ते काम ज्यादा" ..ऐ मेरा वादा ....
चलो हुन तुस्सी दस्सो ...ऐ त्वाडी बारी ....

12 comments:

अजय कुमार said...

सब अच्छा अच्छा हो इसी की कोशिश करेंगे

कुश said...

चक दे फट्टे..!

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' said...

नववर्ष की शुभकामनाएं
शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

aarkay said...
This comment has been removed by the author.
डॉ .अनुराग said...

देखिये क्या गुल खिलाता है ये साल...वैसे कसमे ओर वादे करना हमने छोड़ दिया है ...निभते नहीं !!

सागर said...

मूड में हो आज तुस्सी ... तभी चंगी गल करदे हो ...

Kishore Choudhary said...

इस साल आप स्वस्थ रहें और विगत की तरह बैड रेस्ट न हों जो हों वो आपकी ही मरजी की हों. यानि बहार भी आये तो आपकी रज़ा शामिल हो.
शुभकामनाएं कि आपके शब्दों का साथ यूं ही बना रहे. मेरा नए साल का रिजोल्यूशन है शब्दों से कुश्ती कम ही करनी है याराना रहे तो ठीक नहीं तो उधार के शब्दों से काम चलाने की कोशिश करूँगा.

Creative Manch-क्रिएटिव मंच said...

शुभ कामनाएं



★☆★☆★☆★☆★☆★☆★
श्रेष्ठ सृजन प्रतियोगिता
★☆★☆★☆★☆★☆★☆★
क्रियेटिव मंच

pukhraaj said...

@सागर ...मूड की तो सारी बात ही है जी ... मूड नहीं तो कुछ भी नहीं ...
@ किशोर ...इतनी सारी शुभकामनाये देने के लिए धन्यवाद ...फ्यूचर का तो किसी को पता नहीं पर आप जैसे शुभाकांक्षी हो तो और क्या चाहिए ...बस एक बात पसंद नहीं आई ...वो ये की आपने लिखना कुछ कम कर दिया है आजकल ... कुछ न कुछ तो पढने को मिलते रहना चाहिए भाई ...

निर्मला कपिला said...

lao jee fer saaDee vee ik gal suN lavo aapaaMM noo tuhaada blaag bada changa lagaa age to hindee lipi vich likhangee aj font chaliya nahee naven saal diyan te4 lohadee diyan bahut bahut badhaiyaam hor kee sift karan ji tusin tan pehalan hi pukharaaj ho jioonde raho bachaa asees e

संगीता पुरी said...

इस नए ब्‍लॉग के साथ आपका हिन्‍दी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. आपसे बहुत उम्‍मीद रहेगी हमें .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...

एक उम्दा प्रस्तुति....शुभकामनायें....